4 Mukhi Rudraksha – फायदे, धारण विधि और मंत्र

रुद्राक्ष पहनने या घर में रुद्राक्ष की पूजा करने से हमारे जीवन में एक अलग ही प्रकार की साधगी आती है। तो आज हम बात करने वाले है 4 mukhi rudraksha के बारे में। आज हम 4 mukhi rudraksha benefits in hindi और उससे साथ साथ कोई अन्य समस्याओ का हल बताएंगे।

चलिए समय ज़ाया ना करते हुए सुरु करते है और जानते है 4 mukhi rudraksha benefits in hindi। उसके बाद हम आपको इसको धारण करने की विधि और मंत्र बताएंगे।

4 Mukhi Rudraksha ke Fayde

सभी रुद्राक्ष के अपने ही फायदे होते है और चार मुखी रुद्राक्ष में कुल चार धारिया होती है इसलिए इससे चार मुखी रुद्राक्ष कहा जाता है। चलिए अब चार मुखी रुद्राक्ष के फायदे जानते है।

  1. चार मुखी रुद्राक्ष के अधिपति ब्रह्मा है। इसे देवी सरस्वती का प्रतिनिधि माना गया है।
  2. इससे स्मरण शक्ति , मौखिक शक्ति , व्यव्हार चातुर्य , वाक्य चातुर्य और बुद्धिमता का विकास होता है।
  3. बुध गृह के प्रतिकूलता से उत्त्पन सभी दोषो का निवारण करता है।
  4. 4 Mukhi Rudraksha को धारण करने से संतान की प्राप्ति होती है।
  5. यह रुद्राक्ष बुद्धि को अति तीव्र कर देता है।
  6. शरीर के रोगो को दूर करने में सहायक होता है चार मुखी रुद्राक्ष।
  7. इस रुद्राक्ष को धारण करने से वाणी में मिठास और दुसरो को अपना बनाने की कला विकसित होती है।
  8. वेदो और धार्मिक ग्रंथो क अध्यन में भी सफलता प्राप्त होती है।
  9. शिव महापुराण के अनुसार इस रुद्राक्ष को लम्बे समय तक धारण करने से जीव हत्या का पाप भी मिट सकता है।
  10. चार मुखी रुद्राक्ष आपको शिक्षा के छेत्र में बहुत सफलता दिलाता है।
  11. स्वस्थ्य मन और शरीर को प्राप्त करने में सहायक है चार मुखी रुद्राक्ष।

4 Mukhi Rudraksha को धारण कब करे सही समय

यदि आप रुद्राक्ष को शरीर पर धारण करना चाहते है किसी भी रुद्राक्ष को तो उसके लिए आप शिव की पूजा वाला कोई दिन चुने तो अत्तिउत्तम होगा। आप श्रावण मास का कोई सोमवार , पूर्णिमा या शिव रात्रि का दिन चुने सकते है। यह सब दिन शिव पूजा के अत्यंत माने जाते है।

हमेशा यह ध्यान रखे की आप जो रुद्राक्ष धारण कर रहे हो वह असली हो। क्युकी बाजार में काफी मात्रा में नकली रुद्राक्ष की बिक्री भी होती है।

4 Mukhi Rudraksha को अभिमंत्रित या धारण कैसे करे

चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने के लिए आपको सबसे पहले उसे अभिमंत्रित करना जरूरी है इसके लिए आपको कांस्य के दो पात्रों में पंचामृत और पंचगव्य बना ले और उसमे गुलाब के पुष्प के पत्ते डाल दे अब बारी बारी से रुद्राक्ष या उसकी माला को स्नान कराए और उसी समय भगवान शिव के मंत्र का जाप करे।

यह शिव पंचाकाक्षर मंत्र ॐ नमः शिवाय हो तो काफी अच्छा है उसके बाद फिर आप इससे गंगाजल से स्नान कराए और फिर एक साल लाल कपडे में चौकी पर रख दीजिये।

उसके बाद चन्दन , बिलबपत्र , लालपुष्प , धुप द्वीप द्वारा रुद्राक्ष की पूजा करके अभिमंत्रित करे। इसके लिए आप शिव गायत्री मंत्र का जाप भी कर सकते है।

इसके अलावा चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र है ॐ ह्रीं नमः का जाप ग्यारह बार।

अब इस रुद्राक्ष को शिवलिंग पर स्पर्श कराकर शिव जी से बिनती करे की वह आप पर कृपया इस चार मुखी रुद्राक्ष के माध्यम से बनाये रखे। उसके बाद आप इसे धारण कर लीजिये।

इसे भी पढ़े

एक मुखी रुद्राक्ष के फायदे

दो मुखी रुद्राक्ष धारण करने के फायदे

तीन मुखी रुद्राक्ष के फायदे धारण करने की विधि और मंत्र

चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने के नियम

4 Mukhi Rudraksha या किसी भी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले आपको यह चीज का ध्यान रखना चाहिए। निचे दिए गए सभी चीजों का ध्यान रखे क्युकी रुद्राक्ष काफी पवित्र माना जाता है।

  1. रुद्राक्ष धारण करता को तामसिक भोजन और मधपान से दूर रहना चाहिए।
  2. रुद्राक्ष की पवित्रता को हमेशा ध्यान में रखे।
  3. रुद्राक्ष को कभी भी नाभि से निचे ना पहने। यह हमेशा आपके दिल के पास रहना चाहिए।
  4. रुद्राक्ष स्वर्ण या रजित धातु में धारण करे। इन धातु के आभाव में इसे रेशमी या ऊनि धागे में धारण करे।
  5. रुद्राक्ष पहनकर शमशान या किसी अंतिष्ठिकरण के प्रस्तुति गृह में ना जाये।
  6. स्तरीय मासिक धर्म के समय रुद्राक्ष को धारण ना करे।
  7. रुद्राक्ष धारण कर रात्रि में शयन ना करे। रात्रि में इसे उतार कर रख दिया कीजिये।

हाल ही में पूछे गए सवाल

बच्चों को कौन सा रुद्राक्ष पहनना चाहिए?

बच्चो को तीन मुखी रुद्राक्ष पहनना चाहिए। तीन मुखी रुद्राक्ष पहनने से बच्चो के अंदर पढाई का जज्बा और तेज याद शक्ति होती है और उसके साथ साथ यह रुद्राक्ष बच्चो में एकाग्रता लाता है। यह रुद्राक्ष बच्चो के स्वस्थ्य को ठीक करता है शरीर ऊर्जा और negative energy से बचाता है तीन मुखी रुद्राक्ष।

कितने मुखी रुद्राक्ष अच्छा होता है?

सभी रुद्राक्ष का अपना ही महत्व और साधना होता है। रुद्राक्ष कई प्रका के होते है तो व्यक्ति के अलग अलग मनोकामनाओं को पूर्ण करते है। परन्तु यदि आप बहुत चिंतित है की कौन सा रुद्राक्ष आपके लिए उत्तीर्ण है तो उसका जवाब है दो मुखी रुद्राक्ष यह आपके सभी इक्छाओ को प्राप्त करने में सहायता प्रदान करता है। यदि यह आपका सबसे पहले रुद्राक्ष धारण है तो आप दो मुखी रुद्राक्ष धारण करे और इसके चमत्कार देखे।

रुद्राक्ष घर में रखने से क्या होता है?

रुद्राक्ष घर में रखने से घर में शांति और कलेश होने से बचाता है। रुद्राक्ष को धारण करने और घर में रखने से अन्य फायदे भी है जैसे धन में वृद्धि होना घर में सुख समृति आना सभी मन प्रफुल्लित रहना आदि। रोगो से दूर रखता है रुद्राक्ष।

निष्कर्ष

रुद्राक्ष भगवान शिव का स्वरुप होता है। इसलिए जीवन में एक बार तो रुद्राक्ष को धारण अवश्य करे। 4 Mukhi Rudraksha के फायदे , धारण करने की विधि और मंत्र तो अब आप जान गए होंगे।

यदि आप certified रुद्राक्ष और अभिमंत्रित रुद्राक्ष खरीदना चाहते हो तो आप Shivaago से खरीद सकते हो। यहाँ पर आपको 100% सही और certified रुद्राक्ष मिलता है।

यदि चार मुखी रुद्राक्ष से जुडी अन्य समस्या हमे कमेंट में बताए हम जल्द से जल्द आपकी समस्या का निवारण आपको ला कर देंगे। और कैसे लगा आपको आज का यह 4 mukhi rudraksha benefits in hindi का विषय हमारे अन्य रुद्राक्ष से जुड़े आर्टिकल अवश्य पढ़े। धन्यवाद।

Leave a Comment