Bhagwat Geeta in Hindi PDF (श्रीमद भगवत गीता) Download

ऐसा माना जाता है की यदि आप जीवन से जुड़े किसी भी सवाल के उत्तर जानना चाहते है तो Bhagwat Geeta में उन सभी के उत्तर आपको मिलेंगे। आज हम आपको bhagwat geeta in hindi pdf देंगे जिससे आप download कर पढ़ सकते है।

यहाँ हम आपको shrimad bhagwat geeta in hindi pdf ही नहीं देंगे इसके साथ हम आपको इस पुस्तक से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सिख भी देंगे जिनको आप बिना download किये पढ़ सके।

क्या आपको पता है यदि एक इंसान ने bhagwat geeta in hindi पूरा पढ़ लिए तो वह अपने समस्या से आसानी से लड़ सकता है। चलिए अब समय ज़ाया ना करते हुए जय श्री राम का नाम लेकर सुरु करते है आज का ब्लॉग bhagwat geeta book in hindi pdf download।

Bhagwat Geeta Saar in Hindi PDF

भगवद गीता, एक पवित्र हिंदू ग्रंथ, कुरुक्षेत्र के युद्धभूमि पर राजकुमार अर्जुन और भगवान कृष्ण के बीच एक गहरे संवाद को संग्रहित करती है।

अर्जुन युद्ध में भाग लेने के बारे में नैतिक संघर्ष में फंस जाते हैं, और कृष्ण उन्हें मार्गदर्शन करते हैं। कर्म (क्रिया), धर्म (कर्तव्य), और योग (साक्षात्कार के मार्ग) के संबंध में चर्चाओं के माध्यम से, गीता विभिन्न दार्शनिक अवधारणाओं जैसे कि कर्म (कार्य), धर्म (कर्तव्य), और योग (साक्षात्कार के मार्ग) पर डूबती है।

यह ईश्वर के प्रति भक्ति को अंतरंग शांति और परम मुक्ति प्राप्ति के लिए अवगति का माध्यम मानती है। भगवद गीता की विश्वव्यापी शिक्षाओं का प्रेरणा देने वाला संदेश आज भी संदेशकों को प्रेरित करता है, जो एक नैतिक और संतोषप्रद जीवन जीने के लिए व्यावहारिक मार्गदर्शन प्रदान करता है।

आपको अपने जीवन में एक बार यह पुस्तक अवश्य पढ़ना चाहिए। यदि आप अपनी धार्मिक यात्रा सुरु करना चाहते है या धर्म के प्रति आपका उत्साह है तब आपको यह अवश्य पढ़ना चाहिए।

ब्लॉग पर हम आपको bhagwat geeta in hindi pdf का download link भी देंगे। इसलिए बने रहिए इस ब्लॉग पर।

Bhagwat Geeta Learnings in Hindi

भगवद गीता से, आप कई महत्वपूर्ण सिख सीखेंगे जो आपके जीवन को गहराई से प्रभावित कर सकते हैं जिंसमे से कुछ सिख निमन्लिखित है ।

  1. धर्म (कर्तव्य): भगवद गीता में अपने कर्तव्य को पूरा करने की महत्वाकांक्षा को प्रमुखता दी जाती है, चाहे व्यक्तिगत इच्छाओं या परिणामों का कुछ भी हो। यह सिखाती है कि निष्काम कर्म करने से आत्मिक विकास और आंतरिक शांति प्राप्त होती है।
  2. कर्म (क्रिया): कर्म का अवधारणा, या कारण और परिणाम का कानून, भगवद गीता के मूल में है। यह सिखाती है कि प्रत्येक क्रिया के परिणाम होते हैं, और व्यक्तियों की अपनी क्रियाओं के लिए उन्हें जिम्मेदार माना जाता है। निष्काम भाव से योग्य क्रियाएँ करके, व्यक्ति आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त कर सकता है।
  3. योग (साक्षात्कार के मार्ग): गीता विभिन्न साक्षात्कार के मार्गों पर चर्चा करती है, जैसे कि कर्म योग (निष्काम क्रिया का मार्ग), भक्ति योग (भक्ति का मार्ग), ज्ञान योग (ज्ञान का मार्ग), और ध्यान योग (ध्यान का मार्ग)। यह महत्वाकांक्षा को संरचित करने का मार्ग बताती है जो किसी के स्वभाव और प्रवृत्ति से मेल खाता है।
  4. स्व-साक्षात्कार: भगवद गीता स्व-ज्ञान की महत्वता को समझने और आत्मा (आत्मा) के सच्चे स्वरूप को जानने की महत्वाकांक्षा करती है। स्वयं जागरूकता और आध्यात्मिक अभ्यास के माध्यम से, व्यक्ति स्व-साक्षात्कार प्राप्त कर सकता है और जन्म-मृत्यु के चक्र से मुक्त हो सकता है।
  5. अनुराग: भगवद गीता ईश्वर के प्रति भक्ति को एक शक्तिशाली साधना के रूप में प्रमुखता देती है। यह दिव्य को अटल विश्वास और प्रेम के साथ ईश्वर के समर्पण की महत्वाकांक्षा को स्वीकार करती है, सभी प्राणियों में ईश्वर की उपस्थिति को पहचानती है।
  6. अलगाववाद: गीता कर्मफलों से अलग होकर क्रियाओं को करने के लिए प्रेरित करती है। अपने कर्मों के परिणामों को भगवान को समर्पित करने और सफलता और असफलता में समता बनाए रखकर, व्यक्ति आसक्ति को पार कर सकता है और आंतरिक शांति प्राप्त कर सकता है।
  7. ज्ञान और मार्गदर्शन: भगवद गीता में, भगवान कृष्ण अर्जुन को गहरे ज्ञान और मार्गदर्शन प्रदान करते हैं, उसके संदेहों, भयों, और नैतिक संघर्षों का सामना करते हैं। गीता के शिक्षाओं से, जीवन की चुनौतियों को ज्ञान और साहस के साथ नाविगेट करने के लिए समयसार दिशानिर्देश प्राप्त किया जा सकता है।

आपको यह पढ़कर कैसा लगा तो देखा दोस्तों भगवत गीता से हमे कितना कुछ सिखने को मिलता है चलिए अब bhagwat geeta book in hindi pdf download की और बढ़ते है।

Bhagwat Geeta in Hindi PDF Download

Bhagwat Geeta in Hindi PDF Download करने के लिए आपको निचे दिए गए टेबल पर जाना होगा वह पर आपको Download Link पर क्लिक करना है जिसके बाद आप shrimad bhagwat geeta in hindi pdf डाउनलोड कर सकेंगे।

Book NameShrimad Bhagwat Geeta
CategorySpiritual
Pages951
LanguageHindi
DownloadLink

FAQ

भागवत गीता पढ़ना कैसे शुरू करें?

भागवत गीता को पढ़ते समय, ध्यान और श्रद्धा रखें, और इसे स्वयं के जीवन में अपनाने का प्रयास करें। यह आपको एक नए और गहरे अर्थ के साथ जीवन का साथी बना सकता है। समय-समय पर इसे पढ़ने के लिए समय निकालें और ध्यान से हर श्लोक को समझें।

इसे केवल एक पुस्तक के रूप में नहीं देखें, बल्कि अपने जीवन के मार्गदर्शन के लिए एक उत्कृष्ट उपकरण के रूप में भी देखें। ध्यान और साधना के माध्यम से, आप इसके शिक्षाओं को अपने जीवन में स्थायी रूप से अनुप्रयोग कर सकते हैं।

भगवत गीता में क्या लिखा है?

भगवद गीता, हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण ग्रंथों में से एक है जिसमें भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन को महाभारत के कुरुक्षेत्र युद्ध के पहले दिन में उसके साथ अपना उपदेश देते हैं। गीता में ब्रह्मविद्या और योग के विषयों पर चर्चा होती है, जिसका उद्देश्य है मनुष्य को धार्मिक एवं आध्यात्मिक मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए मार्गदर्शन करना।

भगवद गीता में कई विषयों पर चर्चा होती है, जैसे कि कर्मयोग, भक्तियोग, ज्ञानयोग, राजविद्या, राजगुह्य, भगवत्संविधान, अत्मसंयम और भगवद्भक्ति। गीता में मनुष्य को उसके कर्मों के लिए जिम्मेदार बनाने और उसे सही कर्मपथ पर चलने के लिए प्रेरित किया गया है। इसके अलावा, गीता में मन, बुद्धि और अहंकार की विवेचना भी की गई है।

भगवद गीता में कुल 18 अध्याय और 700 श्लोक हैं।

रोज गीता पढ़ने से क्या होता है?

रोज भगवद गीता का पाठ करने से व्यक्ति का आत्मविकास होता है। यह प्राचीन धार्मिक ग्रंथ उसे जीवन के महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार करने के लिए प्रेरित करता है और उसे अपने विचारों, शब्दों, और कर्मों की गहरी समझ प्रदान करता है।

इसके नियमित पाठ से मन की शांति, आत्मिक स्थिरता, और आत्मसंयम बढ़ता है। व्यक्ति अपने जीवन में समर्पण, सहानुभूति, और समझदारी की भावना विकसित करता है, जिससे उसके साथी और समाज में सौहार्द और संवाद की भावना उत्पन्न होती है।

इस रूप में, भगवद गीता का नियमित पाठ व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन और आत्मविकास का माध्यम बन सकता है।

Bhagwat Geeta Yatharoop in Hindi pdf

भगवद गीता यथारूप (Bhagavad Gita Yatharoop) एक प्रसिद्ध हिंदी अनुवाद है, जो भगवद गीता की समर्थ अनुवादन की एक प्रमुख रूपरेखा प्रस्तुत करता है।

इस अनुवाद में भगवद गीता के श्लोकों को स्पष्ट, संक्षेपित और अर्थपूर्ण भाषा में प्रस्तुत किया गया है। यह अनुवाद भारतीय संस्कृति, धार्मिकता, और जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर गहरा प्रभाव डालता है।

भगवद गीता यथारूप के माध्यम से लोग अपने जीवन में शांति, समृद्धि, और समझ का विकास करने के लिए मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं।

कुछ अन्य किताब भी पढ़े

The Hidden Hindi Hindi PDF

Yoga Books in Hindi

Conlusion (निष्कर्ष)

भगवद गीता हमें अद्वितीय ज्ञान और समझ प्रदान करती है, जो जीवन, कर्तव्य, और आत्मा के बारे में समझाती है। इसके श्लोकों के माध्यम से, हमें जीवन के संघर्षों को निराकरण करने और अपने अंतर्मन की शांति प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन मिलता है। यह आत्म-समर्पण, निःस्वार्थ कर्म, और शुद्धता का संदेश देती है, जो हमारे जीवन में लागू हो सकता है।

आज के चलते-फिरते दुनिया में, जहां सभी अवस्थाओं में तनाव, संदेह, और अस्थिरता है, भगवद गीता हमें मानवता और आत्म-समझ की शिक्षा देती है। यह हमें हमारी अस्तित्ववादी प्रकृति को समझने और हमें हमारे सबसे ऊँचे संभावनाओं को पहचानने में मदद करती है।

भगवद गीता के अद्वितीय ज्ञान को ध्यान में रखते हुए, हमें इसके शिक्षाओं को अपने जीवन में उतारने का प्रयास करना चाहिए, और सच्चाई, सम्मान, और कर्तव्यवाद के साथ जीने का प्रयास करना चाहिए। भगवद गीता हमें हमारे जीवन के मार्ग की रोशनी में ले जाती है और हमें पूर्णता, समानता, और आध्यात्मिक संज्ञान की दिशा में ले जाती है।

आशा करते है आपको आज का यह ज्ञान से भरा ब्लॉग पढ़कर अच्छा लगा हो। अगर आपको आज का ब्लॉग अच्छा लगा तो कमेंट में जय श्री राम अवश्य लिखे। अब आप आसानी से shrimad bhagwat geeta in hindi pdf पढ़ सकते है।

यदि आपको bhagwat geeta in hindi pdf download करने में कोई परेशानी आये तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते है। हम जल्द से जल्द आपके समस्या का निवारण करने का प्रयत्न करेंगे धन्यवाद्।

Leave a Comment